no image

0

"घमंडी लड़कियां मुज्जसे दुर ही रहे क्योंकि मनाना मुझे आता नहीं ओर भाव में किसीको देता नहीं... (y)" -Faisalkhan pathan